कपिल सिब्बल है इस हंगामे के ज़िम्मेदार

Posted on
  • by
  • Shah Nawaz
  • in
  • Labels: ,


  • वैसे इस प्रकरण में सबसे बड़ी गलती मैं कपिल सिब्बल की मानता हूँ... ना वोह बाबा का समझौते वाला ख़त मीडिया को दिखाते और ना बात इतनी बिगडती। बाबा ने वादा किया था, दोपहर तक अनशन समाप्त करने का, थोड़ी सी देर क्या हुई, कांग्रेस हांफने लगी??? अरे थोडा सा इंतज़ार तो किया होता, बाबा अपने वादे से पीछे हटने वाले थोड़े ही हैं!

    उधर कपिल सिब्बल उनके साथ इतना बड़ा धौखा कर रहे थे और इधर बाबा इस सबसे अनजान, सरकार के द्वारा मांगे माने जाने की ख़ुशी का ऐलान कर रहे थे... वक़्त ने बहुत बड़ा सितम किया कांग्रेस के साथ! काश इतना उतावलापन नहीं दिखाती यह पार्टी तो आज सबकुछ सामान्य होता।

    18 comments:

    1. sarkar ko jimmedar thahrana to aasan hai kintu ye to ham sabhi ka kartvya hai ki ham sarthak pahal karen n ki roz nayee pareshaniyan khadi kar sarkar kee nak me dam karen.is tarah ke aandolan bharshtachar ko samapt nahi kar sakti.sarkar ko ek taraf chhod kar ham yadi apne gireban me jhanke to kya ham iske uttardayi nahi hain ham apne kam karane ko har hathkanda aajmane taiyyar hain chahe uske liye kisi bhi seema taq girna oad jaye.
      mahatma gandhi ke path ka yadi ye aajkal ke so-called neta apna rahe hain to unki himmat bhi to apne me layen is tarah chhup chhup kar apne liye auron ko marvane vale kabhi desh hit nahi kar sakte.

      ReplyDelete
    2. This comment has been removed by the author.

      ReplyDelete
    3. सही कारण बताया आपने । उतावलेपन में अपने ही पाँव पर कुल्हाड़ी मार ली सरकार ने।

      ReplyDelete
    4. कपिल सिब्बल.... अरे वही काली वर्दी वाला झूठा ना जो करोडों के घोटाले को लाखॊं का बताया :)

      ReplyDelete
    5. कपिल सिब्बल के साथ ही दिग्विजयसिंह भी कांग्रेस कि लुटिया डुबोने के जिम्मेदार साबित रहेंगे ।

      ReplyDelete
    6. कपिल सिब्बल कॉंग्रेस के 'अमर सिंह' बनते जा रहे हैं.. इनकी भी दुर्गति लिखी है..

      ReplyDelete
    7. धूर्त लोग धूर्तता ही करेंगे | अरे क्या जरुरत थी इतना ड्रामा करने की | बाबा को पहले ही धमका दिया होता , योग के लिए ली गयी इजाजत निरस्त कर देते ,मिडिया के द्वारा लोगों को चेतावनी दे देते कि बाबा के आन्दोलन को इजाजत नहीं है आने वालों पर पुलिस के लट्ठ पड़ेंगे |
      पहले चार चार मंत्रियों ने बाबा के आगे शीर्षासन किया फिर दिग्विजय की एक झाड़ पड़ते ही सब मंत्रियों की हेकड़ी निकल गयी और धूर्तता करने पर उतर आये |

      ReplyDelete
    8. आपने सच कहा हमारे बाबा भोले-भाले हीरो हैं और कपिल जी हैं खलनायक सनम बेवफ़ा के डैनी जैसे ।
      कपिल जी के लिए हम निम्न कहावतें नहीं कह सकते:

      1. कौआ चला हंस की चाल और अपनी भी भूल गया ।
      2. सियार का रंग उतर गया तो उसकी हक़ीक़त खुल गई।
      3. अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान ।

      अगर ये कहावतें कपिल जी पर फ़िट नहीं बैठतीं तो फिर आप उन्हें ज़िम्मेदार भी नहीं ठहरा सकते लेकिन हमारे फिर भी हमें मानना चाहिए कि बाबा भोले हैं । आज भी जब उन्हें नींद नहीं आती तो आश्रम की औरतें उन्हें कपिल जी का नाम लेकर सुला देती हैं बिल्कुल शोले स्टाइल में लेकिन बाबा हैं कि ठीक डेढ़ बजे जाग जाते हैं और छलाँगे लगाने लगते हैं । अब निजी ख़र्चे पर दो चार लेडीज़ सूट के साथ एक बुरक़े का ऑर्डर भी उन्होंने दिया है । ऐसी अफ़वाह सुनने में आ रही है।
      बाबा को अच्छा कहो और कपिल जी को बुरा , यह नीति ठीक है । जो ऐसा करेगा उसे ठुमकती बुढ़िया वर्ग लाइक करेगा , श्योर।
      आपके टोटके भी ग़ज़ब के हैं साहब । आप वही बोलते हैं जो लोग सुनना चाहते हैं । जबकि हम वह कहते हैं जो हम कहना चाहते हैं।
      और हम यह कहना चाहते हैं कि वंदे मातरम् गाने मात्र से आदमी में वीरता और बलिदान की भावना नहीं आ जाती वर्ना बाबा रामदेव जी में ये गुण ज़रूर आ चुके होते।

      ReplyDelete
    9. धूर्त लोग हे यह, यह पत्र दुर से दिखा रहे हे क्या इस पत्र को किसी समाचार पत्र मे दिखाया गया हे जहां जनता साफ़ साफ़ पढ सके? किसी नेट पर डाला हे? बाबा ने इस पत्र के बारे पहले ही दिन बता दिया था, जो जो लोग इन धूर्त लोगओ के बिरुध बोल रहे हे वो सब चोर हे... ओर यह दुध के धुले हे ईमान दार, विदेशो मे पडा धन भी इन साधू संतो का हे इन नेताओ का नही, यह हरामी अपने बच्चो की शादी राजाओ महराजो की तरह करते हे, बाकी जनता एक समय का खाना भी नही खा सकती... अरे जागो तुम लोगो को कोई जगाने तो आया हे, क्यो इन नेताओ की चाल मे आ कर अपने ही पेरो मे फ़िर से बेडियां डाल रहे हो जागो जागो... ऎसे मोके बार बार नही आयेगे

      ReplyDelete
    10. क से कपिल, क से कुटिलता...
      ब से बाबा, ब से बैंगन...

      जय हिंद...

      ReplyDelete
    11. खुशदीप की तिप्पणी ही मेरी है\ वैसे ब से बहुत कुछ कहना चाहूँगी मगर फिर मुझे दिगविजय सिंह बनना पडेगा। कपिल ने अपने आप कुछ नही किया जो पूरी पार्टी ने चाहा वही हुया कपिल तो बस मोहरा हैं लेकि ये जरूरी था। धीरे धीरे बाबा का पोल खुल रहा है। अब तो आतम्कवादी फौज बनाने का एलान भी कर दिया क्या अब भी कुछ बाकी बचा है सच जानने के लिये? बाबा अभी कच्चे खिलाडी हैं\

      ReplyDelete
    12. kutil kapil sibbal

      isi ne 2G spectrum ghotale ke liey kaha tha ki 1 rupye ka bhi ghotala nhi hau hai! fir kahe raja/kani andar hui gaye! kyun kapil badmash ji!

      ReplyDelete
    13. आपकी बातों से सहमत हूँ जी....



      ********************
      कभी 'यदुकुल' की यात्रा पर भी आयें !!

      ReplyDelete
    14. आपकी बातों से सहमत हूँ| जल्दी का काम शैतान का काम थोड़ा सब्र कर लेते !

      ReplyDelete
    15. बहुत ही बढ़िया आलेख है,राज्नीति की चाल तो निराली है
      साभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

      ReplyDelete
    16. लेकिन इसका दुष्‍परिणाम यह हुआ कि पहले से चल रहा एक सार्थक आंदोलन भी अब अपनी धार खो देगा।

      ---------
      हॉट मॉडल केली ब्रुक...
      लूट कर ले जाएगी मेरे पसीने का मज़ा।

      ReplyDelete
    17. लीगल सैल से मिले वकील की मैंने अपनी शिकायत उच्चस्तर के अधिकारीयों के पास भेज तो दी हैं. अब बस देखना हैं कि-वो खुद कितने बड़े ईमानदार है और अब मेरी शिकायत उनकी ईमानदारी पर ही एक प्रश्नचिन्ह है

      मैंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर श्री बी.के. गुप्ता जी को एक पत्र कल ही लिखकर भेजा है कि-दोषी को सजा हो और निर्दोष शोषित न हो. दिल्ली पुलिस विभाग में फैली अव्यवस्था मैं सुधार करें

      कदम-कदम पर भ्रष्टाचार ने अब मेरी जीने की इच्छा खत्म कर दी है.. माननीय राष्ट्रपति जी मुझे इच्छा मृत्यु प्रदान करके कृतार्थ करें मैंने जो भी कदम उठाया है. वो सब मज़बूरी मैं लिया गया निर्णय है. हो सकता कुछ लोगों को यह पसंद न आये लेकिन जिस पर बीत रही होती हैं उसको ही पता होता है कि किस पीड़ा से गुजर रहा है.

      मेरी पत्नी और सुसराल वालों ने महिलाओं के हितों के लिए बनाये कानूनों का दुरपयोग करते हुए मेरे ऊपर फर्जी केस दर्ज करवा दिए..मैंने पत्नी की जो मानसिक यातनाएं भुगती हैं थोड़ी बहुत पूंजी अपने कार्यों के माध्यम जमा की थी.सभी कार्य बंद होने के, बिमारियों की दवाइयों में और केसों की भागदौड़ में खर्च होने के कारण आज स्थिति यह है कि-पत्रकार हूँ इसलिए भीख भी नहीं मांग सकता हूँ और अपना ज़मीर व ईमान बेच नहीं सकता हूँ.

      ReplyDelete
    18. दोनो की मंशा ने दोनो को नंगा कर दिया।

      ReplyDelete

     
    Copyright (c) 2010. प्रेमरस All Rights Reserved.