रोहतक ब्लोगर मिलन

Posted on
  • by
  • Shah Nawaz
  • in
  • Labels:
  • बाएँ से: डॉ अरुणा कपूर जी, निर्मला कपिला जी, संजू तनेजा, संगीता पुरी जी, योगेंद्र मौदगिल जी.
    ऊपर की लाइन (बाएँ से) : सतीश सक्सेना जी, केवल राम जी, राज भाटिया जी, ललित शर्मा जी, संजय भास्कर, खुशदीप सहगल (पीछे की ओर), मैं (शाहनवाज़ सिद्दीकी), अजय कुमार झा और राजीव तनेजा.
    [यह फोटो देखकर चौंकिएगा मत, मैंने यह फोटो सतीश जी और मेरे द्वारा खिंची गई अलग-अलग दो फोटों को मिला कर बनाई है, तभी तो एक ही फोटो में मैं और सतीश जी साथ-साथ नज़र आ रहे हैं :-) ]

    मूंछों में मेरा नया अवतार!
    नुक्कड़ द्वारा आयोजित दिल्ली ब्लोगर विमर्श की ही तरह रोहतक ब्लोगर्स मिलन भी कई मायने में ज़बरदस्त रहा. जहाँ एक ओर नए-पुराने ब्लॉग लेखक एक खुशनुमा माहौल में मिले और एक दुसरे के बारे में जाना, वहीँ कई सार्थक बातें भी सामने आई. खुशदीप जी के प्रस्ताव पर बहुत से ब्लोगर्स ने अपनी कमियां बताई, अधिकतर ने बिना लाग-लपेट के बताया कि टिप्पणियों से उन्हें फर्क पड़ता है. बात-चीत से पता चला कि हिंदी ब्लॉग जगत एक परिवार के तरह विकसित होता जाता रहा है, लोग यहाँ की खुशियों से खुश और दुखों से दुखी होते हैं, ललित शर्मा जी की तो ब्लोगिरी के कारण शुगर तक कंट्रोल में रहती है. निर्मला कपिला जी ने बताया कि कैसे उन्हें कंप्यूटर की तकनिकी जानकारी ना होने के कारण मुश्किलें पेश आती हैं, कुछ-कुछ यही कमजोरी डॉ. अरुणा कपूर जी ने भी बताई.

    संजय भास्कर भाई ने वर्तिनी में होने वाली गलतियों को अपनी कमजोरी बताया, वहीँ राज भाटिया जी भी इसे ही अपनी कमजोरी मानते हैं. उपस्थित सभी साथियों की यही राय थी, कि ब्लोगिंग के ज़रिए ना केवल भाषा में सुधर हो रहा है बल्कि कई और महत्त्वपूर्ण बातों को सीखने का मौका मिल रहा है. नीरज जाट जी जैसे ब्लोगर्स केवल ब्लॉग लेखकों के लिए ही नहीं वरन अलग-अलग क्षेत्रों के ज़रूरतमंद लोगों के लिए वरदान होंगे और हो भी रहे हैं.
    योगेन्द्र मौदगिल जी की एकता और सौहार्द पर लिखी लाजवाब पंक्तियाँ "मस्जिद की मीनारें बोलीं, मंदिर के कंगूरों से, संभव हो तो देश बचा लो मज़हब के लंगूरों से.." पढ़कर सतीश सक्सेना जी ने उनका परिचय कराया. वहीँ पता चला कि केवल राम जी तो ब्लॉग पर पूरी पी.एच.डी. ही कर रहे हैं.

    अजय कुमार झा जी ने बताया कि कैसे अब लोग ब्लोग्वानी की तरह चिटठाजगत की भी टांग खींचने लगें हैं, आखिर यह सब कैसे रुकेगा? उनका सुझाव था कि हमें सभी ब्लॉग-संकलकों पर अपना ब्लॉग सम्मिलित करना चाहिए. ललित जी ने बताया कि कुछ ब्लोगर ब्लोगिंग के ज़रिये अच्छा-खासा पैसा कम रहे हैं, वह जानने के इच्छुक थे कि आखिर कैसे? उनकी इसके लिए एक कार्यक्रम भी रखने की योजना है. वहीँ मैंने बताया कि मेरे ब्लॉग प्रेमरस.कॉम का लक्ष्य तो है प्रेम और सौहार्द फैलाना लेकिन मैं अपनी विज्ञापन पृष्ठभूमि के कारण ब्लॉग जगत में ब्लोगर्स के आर्थिक लाभ की संभावनाओं को तलाशता रहता हूँ. मैंने ललित जी वादा किया कि जल्द ही इस पर पूरी तरह शोध करके सभी संभावनाओं को सबके सामने रखूँगा. हालाँकि मेरा भी यह मानना है कि व्यक्तिगत रूप में हिंदी ब्लॉग जगत में आर्थिक लाभ ढूँढना अभी दूर की कोडी है, लेकिन सामूहिक रूप से प्रयास होने पर यह आज भी असंभव नहीं है. इस पर मेरा विचार यह भी था, कि इस तरह का प्रोग्राम ऐसे डिजाईन होना चाहिए जिससे कि तकनिकी जानकारी ना रखने वाले ब्लोगर बंधू भी आसानी से इसका फायदा उठा सकें.

    राज भाटिया जी ने ज़बरदस्त मेहमान नवाजी की, वहीँ अंतर सोहिल की मेहनत भी काबिले तारीफ़ थी, राज भाटिया जी के भतीजे चित्रांश (लकी) ने भी अपनी मेहनत से सबका मन मोह लिया. हमें आगे डॉ. दाराल साहब के पास जाना था, इसलिए  अलबेला खत्री जी नहीं मिल पाए. जाते समय हरदीप राणा (कुंवर जी) से भी बहुत थोड़ी ही बात हो पाई, जिसका मुझे अभी तक मलाल है. :-(

    रोहतक के घमासान में भिड़ने वाले पहलवान ब्लोगर्स थे:
    खुशदीप सहगल भाई
    राज भाटिया जी
    योगेंद्र मौदगिल जी
    निर्मला कपिला जी
    संगीता पुरी जी
    सतीश सक्सेना जी
    ललित शर्मा जी
    नरेश सिंह राठौड़ जी
    डॉ अनिल सवेरा जी
    डॉ प्रवीण चोपड़ा जी
    डॉ अरुणा कपूर जी
    अलबेला खत्री जी
    अजय कुमार झा
    राजीव तनेजा
    संजू तनेजा
    संजय भास्कर
    अंतर सोहिल
    नीरज जाट
    केवल राम
    हरदीप राणा (कुंवर जी)

    अगर भूलवश किसी का नाम लिखने से रह गया हो तो कृपया सूचित कर दें.

    
    

    ब्लोगर्स मिलन की लाइव रिपोर्टिंग
    
    पहली रिपोर्ट जांचते राज भाटिया जी.
     
    ललित जी, तनेजा भाई, कुंवर जी और मैं

     
    खुशदीप भाई और अनिल 'सवेरा' जी के साथ

    अपनी बारी का इंतज़ार, साथ में हैं अंतर सोहिल भाई तथा खुशदीप भाई

    केवल राम भाई अपनी बात बताते हुए

    अब मेरी बारी

    राज भाटिया जी अपनी बात रखते हुए

    एक ग्रुप फोटो

    विचार मंथन: राजीव तनेजा जी डॉ. अरुणा कपूर एवं उनके पति के साथ

      ब्लोगर्स मस्ती: मेरे साथ संजय भास्कर, योगेन्द्र मौदगिल जी तथा ललित शर्मा जी

    नोट: सभी फोटों साभार श्री सतीश सक्सेना जी


    Keywords: blogger milan, meet, rohtak, tiryal jheel

    31 comments:

    1. ब्लॉग जगत एक परिवार के रूप में विकसित और सुदृढ़ हो,यही कामना है।
      बहुत सही ..बहुत खूब ..अविस्मरणीय रहा यह ब्लॉगर मिलन..शुक्रिया

      ReplyDelete
    2. आनन्द आ गया आपसे और बाकी सबसे मिलकर।

      ReplyDelete
    3. वाह!..सभी फोटोग्रफ्स सुंदर है!..तिलियार का ब्लोगर संमेलन सफल रहा!

      ReplyDelete
    4. बहुत ही सुंदर रिपोर्टिंग शाहनवाज़ भाई , एकदम कमाल । मैं जल्दी ही इसकी विस्तृत रपट लिखने वाला हूं , फ़ोटो तो मस्त हैं और मिला कर तैयार की गई फ़ोटो और भी कमाल रही ।आपके एक बेहत काबिल रूप को करीब से जाना इस मिलन में

      ReplyDelete
    5. सुंदर चित्रों के साथ अच्छी रिपोर्ट। हम न हुए!

      ReplyDelete
    6. शाहनवाज सहगल साहब, बहुत खूब खुशदीप सिद्दीकी की बधाई कबूल फरमाइए...

      अजय कुमार फिलीप्स पहले ही आ चुके हैं...

      सतीश सिंह पाबला आते ही होंगे...

      जय हिंद...

      ReplyDelete
    7. ... bahut badhiyaa ... shaandaar !!!

      ReplyDelete
    8. अब यह तो निश्चित हो गया कि ब्‍लाग जगत आभासी नहीं रहा, अब वह वास्‍तविक संसार है। अब इसे परिवार का नाम दें या और कुछ। फोटोज बहुत अच्‍छी हैं। अब समय आ गया है कि वर्ष में एक बार ब्‍लागिंग के सम्‍मेलन होने चाहिए। किसी ना किसी को पहल करनी चाहिए।

      ReplyDelete

    9. लो जी सरदार सतीश सिंह हाज़िर हैं ....

      यह नाम अच्छा भी लग रहा है शाहनवाज भाई , शुक्रिया खुशदीप भाई को देते हैं !

      काश यही मस्ती और प्यार सब जगह छा जाए ! लोग हंसते हुए इस छोटे से जीवन का आनंद लेने की कोशिश कब करेंगे ??
      मजेदारी यह कि हम एक दूसरे को जानते तक नहीं मगर अपनी पसंद की राजनीतिक पार्टी और धार्मिक श्रधा को लेकर दांत पीस पीस कर, एक दूसरे को काट लेना चाहते हैं !

      चलिए दुआ करते हैं कि कुछ दुखी आत्माओं को शांति मिले ...और ये लोग कडवाहट भुला मस्ती से हंसना सीख लें !

      सादर

      ReplyDelete
    10. ब्लॉगरीय आनन्दोत्सव।

      ReplyDelete
    11. वाह-वाह खुशदीप सिद्दीकी भाई, शाहनवाज़ सहगल भी आपका और आपकी सोच का बहुत-बहुत इस्तकबाल करता है और साथ ही साथ अजय कुमार फिलीप्स और सतीश सिंह पाबला जी का भी... वोह बेहतरीन पल हमेशा मेरे ज़हन में ताज़ा रहेंगे, जब हम तिल्यार झील, रोहतक के रास्तों में और वहां पहुँच कर साथ-साथ थे...

      ReplyDelete
    12. फोटो तो अच्छी हैं


      शाह जी हमे नहीं बुलाया आपने

      ReplyDelete
    13. तो आप ये (फोटो वाला) कमाल भी कर लेते हैं जी
      सभी तस्वीरें बहुत सुन्दर है
      रिपोर्टिंग के लिये आभार
      एक फोटो में आप, खुशदीप जी और अनिल 'सवेरा' जी की तिकडी है जी
      नरेश सिंह राठौड जी नहीं हैं।

      प्रणाम

      ReplyDelete
    14. अंतर सोहिल भाई, बताने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद! अभी सुधार लेते हैं....

      जहाँ तक फोटो को मर्ज करने की बात है तो आपको ज्ञात होना चाहिए कि मैं विज्ञापन की प्रष्ठभूमि से हूँ...

      ReplyDelete
    15. जितनी तस्वीरें और विवरण पढ़ता हूँ, न आने का मलाल बढ़ जाता है. अब क्या करें..हरि इच्छा!!

      ReplyDelete
    16. http://indianwomanhasarrived.blogspot.com/2010/11/blog-post_9611.html

      ReplyDelete
    17. बहुत ही खूबसूरत रिपोर्ट.....हार्दिक प्रस्तुती.......शाहनवाज जी आप वैसे भी ऐसे आयोजनों में हार्दिक रूचि लेने वाले लोग हैं और यही रूचि ऐसे आयोजनों को सफल बनाता है....राज भाटिया जी का आभार ऐसे आयोजन करवाने के लिए.....

      ReplyDelete
    18. बहुत सुन्दर तस्वीरें और रिपोर्टिन्ग। सद्दीकी जी आपका धन्यवाद कैसे करूँ आप सब ने मुझे जो स्नेह और सम्मान दिया उसके लिये धन्यवाद बहुत कम पड जायेगा बस आशीर्वाद ही दूँगी। मेरी मेल शायद आपको मिल गयी हो। जब समय मिले तो जवाब जरूर दें। शुभकामनायें।

      ReplyDelete
    19. bahut badiya reporting shannavaj sing ji ke sath satish sing ji...

      mast foto hai. aabhar

      ReplyDelete
    20. बहुत ही खूबसूरत रिपोर्ट !

      ReplyDelete
    21. बहुत अच्छा लग रहा है, सारी रिपोर्टॆं पढ़कर.. अब ब्लॉगर मिलन की जगह हमें सेमिनार पर ध्यान केंद्रित करना चाहिये जिससे सभी ब्लॉगर्स को फ़ायदा हो।

      ReplyDelete
    22. शहनवाज भाई ,बहुत बढ़िया विवरण लिखा है|मेरी अगली पोस्ट में ताऊ के कैमरे ने किया रोहतक में कमाल मै आपको ,एक बहुत बढ़िया फोटो वंहा दिखाऊंगा जिससे किसी को शिकायत नहीं होगी की ताऊ वंहा नहीं थे |

      ReplyDelete
    23. बहुत बढ़िया लिखा है --आपने जो आर्थिक अवसरों की बात पर रिसर्च करने की बात कही थी, हमें उस का परिणाम जानने का व्यग्रता से इंतज़ार रहेगा।
      आप का लेख बहुत बढ़िया है- तस्वीरें भी।

      ReplyDelete
    24. शुक्रिया इस रिपोर्ट के लिए !

      ReplyDelete
    25. अच्छा लगा आप सभी से मिल कर, वैसे मैंने एक फोरम प्रारंभ किया है हिन्दी ब्लोगरों के लिए, किसी भी प्रकार की परेशानी के लिए आप संपर्क कर सकते हैं - ब्लोगर फोरम इस लिंक पर.

      ReplyDelete
    26. शाहनवाज जी
      आपका बहुत बहुत आभार ...काफी आकर्षक और मजेदार रिपोर्ट पेश की है आपने ...

      ReplyDelete
    27. बहुत ही बढ़िया रिपोर्टिँग की हैँ तथा फोटो मर्ज करने वाली कलाकारी भी अच्छी हैँ। लेकिन अफसोस है कि इस मिलन का मुझे पता नहीँ चला ।

      ReplyDelete
    28. मैं रोहतक के ब्लॉगर्स पर एक खबर लिखना चाहता हूं....दैनिक भास्कर के लिए.....7082316104 on WhatsApp or call Me on same number.

      ReplyDelete

     
    Copyright (c) 2010. प्रेमरस All Rights Reserved.