पैगंबर मोहम्मद हमेशा शांति के लिए खड़े रहे शांति दूत थे - स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य

Posted on
  • by
  • Shah Nawaz
  • in
  • Labels: , , ,
  • स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य पहले लंबे समय तक इस्लाम को आतंकवाद से जोड़कर देखते थे। दरअसल उन्होंने 'हिस्ट्री ऑफ इस्लामिक टेररिज्म' नाम की किताब भी लिखी थी जिसमें उन्होंने क़ुरआन की कुछ आयतों को हिंसा से जोड़ा था। परन्तु जब वह 'इस्लाम के कारण खतरे में अमेरिका' नामक किताब पर काम कर रहे थे, तब इस्लाम के बारे में उनकी धारणा में बुनियादी परिवर्तन आया। 

    वह कहते हैं कि उन्होंने कुरआन को एक बार फिर पढ़ा और पाया कि जिन आयतों को मैं हिंसा से जोड़ रहा था, उनका आतंक से कोई लेना-देना नहीं था। यही नहीं स्वामी कहते हैं कि इसके बाद उन्होंने पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में बारीकियों से पढ़ा और पाया कि वह तो हमेशा शांति के लिए खड़े रहे शांति दूत थे।

    अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 'इस्लाम' पर एक सेमिनार के दौरान उन्होंने यह बातें कहीं





    पैगंबर मोहम्मद हमेशा शांति के लिए खड़े रहे शांति दूत थे - स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्यस्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य पहले लंबे...
    Posted by Shah Nawaz on Tuesday, April 7, 2015

    7 comments:

    1. और इस बात की चर्चा नहीं होती....

      ReplyDelete
    2. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (08-04-2015) को "सहमा हुआ समाज" { चर्चा - 1941 } पर भी होगी!
      --
      सादर...!
      डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

      ReplyDelete
      Replies
      1. धन्यवाद शास्त्री जी :)

        Delete
    3. सच बहुत गहराई में जाकर ही मिलता है....पैगंबर हो या कोई मसीहा वह शांति का दूत ही होता है ...
      बहुत बढ़िया प्रेरक प्रस्तुति

      ReplyDelete
      Replies
      1. शुक्रिया कविता जी

        Delete
    4. बिलकुल सही है , अक्सर परिभाषा करने वाले कुछ अधिक विद्वान होते हैं !

      ReplyDelete

     
    Copyright (c) 2010. प्रेमरस All Rights Reserved.