मुनव्वर राना साहब से ख़ुसूसी मुलाक़ात

Posted on
  • by
  • Shah Nawaz
  • in
  • Labels: ,
  • एक ऐसे शायर से मुलाकात जिसकी जुबान पर महबूब के पांव की खामोशी नहीं बल्कि कान छिदवाती गरीबी होती है... मिलिए मुनव्वर राना से इस बार के हम लोग में।




    कल मेरी ज़िन्दगी को मशहूर शायर जनाब मुनावार राना  साहब के साथ मुलाक़ात का ताउम्र ना भूलने वाला मौका मयस्सर हुआ। इस लुफ्त-अन्दोज़ मुलाक़ात के सफ़र में दीगर हज़रात के साथ जनाब संतोष त्रिवेदी और सानंद रावत जी मेरे हम-कदम थे। एनडीटीवी के प्रोग्राम 'हमलोग' में उनकी आमद की खबर संतोष भाई ने मुझे दी और मालूम किया कि क्या आप आना चाहते हैं... भला इसका जवाब ना में कैसे दिया जा सकता था?

    उनसे मिलना, उनको अपनी आँखों के सामने सुनना, मेरे लिए ख्वाब जैसा था, इसलिए बिना सोचे समझे ही हाँ कर दी। इस मुलाक़ात के लिए मैं संतोष भाई का तहे-दिल से आभारी हूँ...

    उम्मीद है उनको देख-सुन कर आपको भी एक अजब सा लुत्फ़ मिला होगा!


    मुनव्वर राना साहब के साथ खाकसार




    23 comments:

    1. Replies
      1. शुक्रिया शिवम भाई...

        Delete
    2. शहनवाज़ भाई मुनव्वर भाई के साथ आपको देखकर सचमुच बहुत खुशी हुई। अधिक खुशी उन्हे स्वस्थ देख कर हुई। पिछले दो महिने से वे एम्स में ऎडमिट थे। परेशानी के समय में भी उनको शायरी सूझ रही थी:) मुझे वो अपनी छोटी बहन मानते हैं। पिछले कई वर्षों से मै उनसे उनके परिवार से जुड़ी हूँ। कभी महसूस ही नही हुआ कि उन्हे जानना चन्द सालों का ही है। अब मिले तो उन्हे मेरा प्रणाम कहियेगा।

      ReplyDelete
      Replies
      1. जानकार बहुत ही खुशी हुई सुनीता जी... मुनव्वर साहब ने मोबाइल नंबर दिया है अपना... बात होगी तो आपका प्रणाम उनतक पहुंचा दूँगा...

        Delete
    3. जय हो ऐसी मुलाकातें तो ताउम्र याद रखने वाली होती हैं शाहनवाज़ भाई । बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं आपको

      ReplyDelete
      Replies
      1. बहुत-बहुत शुक्रिया अजय भाई.... आपने बिलकुल सही कहा...

        Delete
    4. बहुत गज़ब अनुभूति रही ,साहब से मिलकर !

      ...हम तो धन्य हुए !

      ReplyDelete
    5. Replies
      1. ज़र्रा नवाजी आपकी अजय भाई...

        Delete
    6. Replies
      1. शुक्रिया अलोक भाई....

        Delete
    7. Replies
      1. सच में बहुत अच्छा लगा....

        Delete
    8. धरोहर होती हैं ऐसी मुलाकातें

      ReplyDelete
      Replies
      1. शत-प्रतिशत सही कहा आपने वर्मा जी...

        Delete
    9. Replies
      1. शुक्रिया सतीश भाई...

        Delete
    10. हालाँकि राना साहब के बारे में नहीं जनता , लेकिन आपकी ख़ुशी बता रही है की काफी ऊंची शख्सियत से मिले हैं . बधाई .

      ReplyDelete
      Replies
      1. बिलकुल... ऊपर वाला वीडियो देखिये.... काफी कुछ जान जाएँगे...

        ब्लॉग पर उनके बारे में लिखने की कोशिश करूँगा

        Delete
    11. सच में, बहुत अच्छा लगा..

      ReplyDelete
      Replies
      1. शब्दों में बयां करना मुश्किल है...

        Delete

     
    Copyright (c) 2010. प्रेमरस All Rights Reserved.